पहले आदिवासी नायक लूथर तिग्गा का निधन



इतिहास कुछ ही लोगों को उनके काम के चलते लीजेंड बना देता है। झारखंड में लगभग गुमनाम हो चुके लूथर तिग्गा वैसे लोगों में से एक हैं जिनको इतिहास ने जीते जी लीजेंड बना दिया है। आज से 62 साल पहले जब उन्होंने ऋत्विक घटक की बांग्ला फिल्म ‘अजांत्रिक’ (1958) में अभिनय किया था, तब उनको यह जरा भी ख्याल नहीं आया होगा कि वह जो काम कर रहे हैं, उसके चलते एक दिन वे लीजेंड बन जाएंगे। भारतीय सिनेमा के इतिहास में देश के पहले आदिवासी अभिनेता बनने का गौरव उन्हें प्राप्त होगा। क्योंकि उनसे और 1958 के पहले किसी आदिवासी का फिल्म में अभिनय करने का कोई इतिहास नहीं मिलता। इस लीजेंड्री आदिवासी अभिनेता को पिछले साठ सालों में किसी ने खोजने की जरूरत नहीं समझी। राज्य बनने के बाद कई फिल्म समारोह हो गए, फिल्म बोर्ड बन गया, पर लूथर तिग्गा उपेक्षित ही रहे।
@ak pankaj के वाल से।

 

शहरनामा
राजनामा