वंदना की कविताओं में बदलाव का स्वर



Chauraha.in

पांचवें शैलप्रिया स्मृति सम्मान के अवसर पर बोले डॉक्टर वीर भारत तलवार


'जब आप स्थापित मान्यताओं को चुनौती देने लगें, जब आप परंपराओं पर सवाल उठाने लगें, तब मान लीजिए कि बदलाव और क्रांति की शुरुआत यहीं से हो जाती है। वंदना टेटे की कविताएं यह काम करती हैं!' झारखंड का प्रतिष्ठित शैलप्रिया स्मृति सम्मान वंदना टेटे को दिए जाने के ऑनलाइन कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जाने-माने आलोचक और झारखंड विशेषज्ञ डॉक्टर वीर भारत तलवार ने यह बात कही।

उन्होंने वंदना टेटे की कविताओं का उल्लेख करते हुए बताया कि ये कविताएं किस तरह अपनी परंपरा से मुठभेड़ ...
ताजा-ताजा
संस्कृति/पर्यटन
साहित्य, संगीत, कला की देवी


विजय केशरी

ज्ञान, कला और स्वर की अधिष्ठात्री देवी माता सरस्वती की आराधना से ज्ञान की वृद्धि होती है। माता ...
पहाड़ बताते हैं अपनी कहानी


डा. नितीश प्रियदर्शी, भूवैज्ञानिक

छोटानागपुर के नाम से ख्यात झारखंड की भूमि रत्नगर्भा तो है ही, भौगोलिक, धाॢमक एवं ऐतिहासिक ...
शहरनामा

राजनामा

समाजनामा
आदिवासीनामा
जंगलनामा
शहरनामा
साहित्यनामा

जंगलनामा

धर्म/संस्कृति

पर्यटन