1.५ लाख साबुन वितरित करेगा यूनिसेफ



Chauraha.in नवंबर, 2020।

हिंदुस्तान यूनिलिवर लिमिटेड (एचयूएल) ने यूनिसेफ के साथ अपनी वैश्विक साझेदारी के तहत झारखंड में झुग्गी व ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों, स्वास्थ्यकर्मियों एवं आंगनवाड़ी कर्मचारियों को लगभग 1.5 लाख साबुन बांटे। ये साबुन सरकार को कोविड-19 से लड़ने में मदद करने के लिए निशुल्क वितरित किए गए।

कोरोना वायरस एवं अन्य संक्रामक बीमारियों से बचाव करने का सबसे प्रभावशाली उपाय साबुन से हाथ धोना है। नाजुक वर्ग के लोगों को कोविड-19 के प्रकोप से बचाने के लिए साबुन वितरित किया जाना अब और महत्वपूर्ण हो गया है।

इस अभियान के बारे में संजीव मेहता, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, हिंदुस्तान यूनिलिवर लिमिटेड ने कहा, ‘‘हम कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हाथों की स्वच्छता की शक्ति में भरोसा करते हैं। यूनिसेफ के साथ हमारी साझेदारी ने हमें विभिन्न सरकारों द्वारा कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए किए जा रहे उनके प्रयासों में सहयोग करने में समर्थ बनाया है। हमारे उत्पाद देश में कोविड हाॅटस्पाॅट्स में समुदायों की सुरक्षा करेंगे।’’

भारत में यूनिसेफ की प्रतिनिधि, डाॅक्टर यास्मीन अली हक ने कहा, ‘‘कोविड-19 को रोकने के लिए हमें हर किसी को हाथ धोने का साधन उपलब्ध कराना होगा। हमें हाथ धोने की आदत का विकास करना होगा। इसके लिए अंतर्राष्ट्रीय साझेदारी, राष्ट्रीयसरकारों, निजी व सार्वजनिक क्षेत्र और सिविल सोसायटी को मिलकर काम करना होगा। कोविड-19 हाॅटस्पाॅट्स में कमजोर वर्ग के लोगों की मदद करने के लिए हमें एचयूएल के साथ मिलकर काम करने पर गर्व है।

एचयूएल से मिले समर्थन की सराहना करते हुए सिविल सर्जन सह मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा- वी. बी. प्रसाद ने कहा, “कोविड 19 के दौरान हाथ धोना काफी महत्वपूर्ण है।एचयूएल एवं यूनिसेफ से प्राप्त आपूर्ति के कारण समुदायों में हाथ धुलाई में तेजी लाने के हमारे प्रयासों को बढ़ावा मिला है। हमने हाथ धुलाई को बढ़ावा देने के लिए समुदायों में साबुनका भी वितरण कराया है। ग्राम स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस हाथ धुलाई के तरीकों के बारे में लोगों को समझाने और बताने का एक अच्छा मंच है।”

मार्च में एचयूएल ने कोविड-19 महामारी से लड़ाई में भारत की मदद करने के लिए रु. 100 करोड़ का योगदान देने का संकल्प लिया है। अप्रैल में यूनिसेफ और एचयूएल ने मिलकर कोविड-19 से लड़ाई के लिए एक जन संचार अभियान ‘वायरस की कड़ी तोड़ो’ चलाया। इस अभियान में एचयूएल के विस्तार व विशेषज्ञता तथा यूनिसेफ के तकनीकी ज्ञान का उपयोग किया गया, ताकि लोगों को व्यवहार में परिवर्तन लाकर महामारी से सुरक्षित रहने की प्रेरणा मिले।

एचयूएल आज तक लोगों व समुदायों को सुरक्षित बनाने, उन्हें सामान पहुंचाकर व्यवसाय जारी रखने के लिए अनेक अभियान चला चुका है, ताकि उपभोक्ताओं को आवश्यक उत्पाद लगातार मिलते रहें। इन अभियानों के तहत बड़े स्तर पर जागरुकता अभियान चलाए गए।कोविड-19 के फ्रंटलाईन कर्मियों तथा समाज के कमजोर वर्गों को स्वच्छता व सुरक्षा उत्पाद वितरित किए गए। एचयूएल अस्पतालों व टेस्टिंग केंद्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं मजबूत करने तथा कोविड-19 से लड़ाई में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है।
विज्ञप्ति